मेरी किस्मत को परखने

मेरी किस्मत को परखने की गुस्ताखी मत करना,
पहेले भी कई तुफान का रुख मोड़ चुका हूँ…!

हमारा तो अंदाज़ ही कुछ

हमारा तो अंदाज़ ही कुछ अलग है,
हम लड़कियों को प्यार कम करते हैं,
पटाते ज़्यादा हैं, और हम अपने दुश्मनो
को मारते कम, घसीटते ज्यादा हैं।

“सुन पगली इस दुनिया में

“सुन पगली इस दुनिया में 5 बादशाह है
4 तो ताश के पत्तो मे और पाचवा वो
जिसका तू Attitude पड़ रही हैं”

ये मत समझ कि

ये मत समझ कि तेरे काबिल नहीं हैं हम,
तड़प रहे हैं वो जिसे हासिल नहीं हैं हम।

दुश्मनों को सज़ा देने

दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी,
मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ।

इतना भी गुमान न कर

इतना भी गुमान न कर
अपनी जीत पर ऐ बेखबर,
शहर में तेरे जीत से ज्यादा
चर्चे तो मेरी हार के हैं।

रेस वो लोग करते हैं

रेस वो लोग करते हैं
जिन्हें अपनी किस्मत आजमानी हो,
हम तो वो खिलाड़ी हैं
जो अपनी किस्मत के साथ खेलते हैं।

“नफरत भी हम हैसियत

“नफरत भी हम हैसियत देख कर करते है..
प्यार तो बहुत दूर की बात है”

स्टाइल तो मैं शौक के

स्टाइल तो मैं शौक के लिये करता हूं,
वरना जमाने के लिये तो
मेरी नशीली आँखें ही काफी हैं..

“बचपन से ही शौक था

“बचपन से ही शौक था अच्छा इंसान बनने का,
लेकिन बचपन खत्म और शौक भी खत्म।”

© 2019 Shayari Guru - Powered by PixelWebMedia