होगा तू बादशाह शायरी

होगा तू बादशाह शायरी का मैं
भी शायरी की रानी हूँ
लबो पर रखती हूँ तेरे अल्फाजों को
ये ना समझ खारा पानी हूँ

मुझे अच्छे लगते है

मुझे अच्छे लगते है
वो लोग जो मुझसे नफ़रत करते है
क्योंकि अब हर कोई प्यार से देखेगा
तो नज़र नहीं लग जाएगी मुझे

में बंदूक और गिटार दोनों

में बंदूक और गिटार दोनों चलाना जानती हूं
तय तुम्हे करना हे की आप कौन सी धुन पर नाचोगे

सुनो_बाबू दुनिया

सुनो_बाबू
दुनिया वाले चाहे कुछ भी कहे
एक तुम मुझ पर भरोसा करो वही काफ़ी है

हम में #अकड़ है

हम में #अकड़ है , #गुरूर है
फिर भी #रेहमत देखो #रब की…
हमे चाहने के लिए ➡सब #मजबूर है

तू मेरा ना हो सका

तू मेरा ना हो सका कोई बात नहीं..
#शहजादी तेरे लिए रोए
तेरी इतनी #औकात नहीं…!

“बचपन से ही शौक था

“बचपन से ही शौक था अच्छा इंसान बनने का,
लेकिन बचपन खत्म और शौक भी खत्म।”

मैं अपने BF को किसी

मैं अपने BF को किसी दूसरी लड़की के साथ देख कर
गुस्सा नहीं होती मेरी Mom ने कहा हैं
खेले हुए खिलौने को गरीबो में बाट दो

मेरा तो #Sweeg ही

मेरा तो #Sweeg ही ऐसा है
जिसे देखु वो घायल हो जाता है

इतना भी Attitude मत

इतना भी Attitude मत दिखाया कर पगले
जैसे रोज Status Change करती हूँ ना
किसी दिन तुझे भी Change कर दूंगी

© 2019 Shayari Guru - Powered by PixelWebMedia