आइना कोई ऐसा बना दे

आइना कोई ऐसा बना दे, ऐ खुदा जो,
इंसान का चेहरा नहीं किरदार दिखा दे।

हमारे हर सवाल का

हमारे हर सवाल का सिर्फ एक ही जवाब आया,
पैगाम जो पहूँचा हम तक बेवफा इल्जाम आया।

मत रख हमसे वफा की

मत रख हमसे वफा की उम्मीद ऐ सनम,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।

टूटे हुए प्याले में जाम नहीं

टूटे हुए प्याले में जाम नहीं आता
इश्क में मरीज को आराम नहीं आता
ये बेवफा दिल तोड़ने से पहले ये सोच तो लिया होता
के टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता!

क्या जानो तुम बेवफाई

क्या जानो तुम बेवफाई की हद दोस्तों,
वो हमसे इश्क सीखती रही किसी ओर के लिए।

हर धड़कन में एक राज

हर धड़कन में एक राज होता है
बात को बताने का भी एक अंदाज होता है
जब तक ना लगे ठोकर बेवाफाई की
तब तक हर किसी को अपने प्यार पर नाज होता है…!!

पहले जिंदगी छीन ली

पहले जिंदगी छीन ली मुझसे…
अब मेरी मौत का भी वो फायदा उठाती है!
मेरी कब्र पे फूल चढाने के बहाने…
वो किसी और से मिलने आती है…

जख़्म इतना गहरा हैं

जख़्म इतना गहरा हैं इज़हार क्या करें।

हम ख़ुद निशां बन गये ओरो का क्या करें।

मर गए हम मगर खुली रही आँखे हमरी।

क्योंकि हमारी आँखों को उनका इंतेज़ार हैं।

मेरे फन को तराशा है

मेरे फन को तराशा है सभी के नेक इरादों ने,
किसी की बेवफाई ने किसी के झूठे वादों ने।

मेरे कलम से लफ्ज़ खो

मेरे कलम से लफ्ज़ खो गए सायद 

आज वो भी बेवफा हो गाए सायद 

जब नींद खुली तो पलकों में पानी था 

मेरे ख्वाब मुझपे रो गाए सायद

© 2019 Shayari Guru - Powered by PixelWebMedia