कभी उलझ पड़े खुदा से

कभी उलझ पड़े खुदा से कभी साक़ी से हंगामा,
ना नमाज अदा हो सकी ना शराब पी सके।

© 2019 Shayari Guru - Powered by PixelWebMedia