सारी खिड़कियां दरवाजे

सारी खिड़कियां दरवाजे बंद कर लेता हूं,
फिर भी न जाने कहां से आ जाती हैं तुम्हारी यादें!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2019 Shayari Guru - Powered by PixelWebMedia