Dard Shayari

सिर्फ तेरे इश्क की गुलामी में हूं आज भी

सिर्फ तेरे इश्क की गुलामी में हूं आज भी💔
वरना ये दिल एक अरसे तक नवाब रहा है😥

One reply on “सिर्फ तेरे इश्क की गुलामी में हूं आज भी”

Leave a Reply

Your email address will not be published.